देश की आशा हिंदी भाषा

समर्थक

गुरुवार, 15 सितंबर 2011

'ऊंचाई से लगती है दुनिया कदमों के नीचे'

रूस के 19 वर्षीय स्टूडेंट मारैट डुपरी ने 18 महीने पहले एक कैमरा खरीदा था। इसके तुरंत बाद ही उन्होंने खूबसूरत नजारों की तस्वीरें लेना शुरू कर दी थीं। उन्हें मकानों की छत पर चढ़कर तस्वीरें खींचना रास आने लगा और उन्होंने इससे भी ज्यादा ऊंचाई तक पहुंचने का फैसला किया। अपने कुछ निडर साथियों और मॉडल्स के साथ उन्होंने मॉस्को शहर की कुछ गगनचुंबी इमारतों पर चढ़कर हैरतअंगेज तस्वीरें खींची हैं।



इन तस्वीरों को देखकर पता चलता है कि ये युवा किस तरह खतरा मोल लेकर इन सैकड़ों फीट ऊंची इमारतों के मुहाने पर चलते हैं। उनके पास किसी तरह के सुरक्षा साधन भी नहीं होते हैं। मारैट कहते हैं कि जब मैं छत पर पहुंच जाता हूं तो मुझे लगता है सारी दुनिया मेरे कदमों के नीचे है। मेरी सारी परेशानियां कहीं नीचे ही छूट जाती हैं। इस ऊंचाई से अपने शहर के नजारे देखना मुझे अच्छा लगता है। यहां मुझे एक नई ऊर्जा मिलती है और मैं जोश में नए शॉट्स लेता हूं।



मारैट बताते हैं कि सही कैमरा मिलने के बाद वे सबसे पहले एक दोस्त के साथ 33 मंजिला इमारत पर चढ़े और तस्वीरें लीं और ये सिलसिला चल पड़ा। इसके लिए वे कई बार बिल्डिंग्स के सुरक्षा गार्डस को भी धोखा देकर ऊपर चढ़ते हैं।
 
 
 
 

1 टिप्पणी:

Mirchi Namak ने कहा…

अजय भाई आपका बहुत बहुत धन्यवाद जो इन महाशय से परिचय कराया यदि आप कि अनुमति हो मै इन छवियों का प्रयोग करना चाहता हूं....