देश की आशा हिंदी भाषा

समर्थक

मंगलवार, 22 नवंबर 2011

कहां से आई विशालकाय व्हेल...आज भी है बरकरार है रहस्य !

चिली में कल्डेरा के पास पिछले साल जून में हाईवे चौड़ा करने का काम चल रहा था। इस दौरान अटकामा रेगिस्तान के इस हिस्से में 75 विशालकाय व्हेल मछलियों के अवशेष मिले थे। समझा जाता है कि ये अवशेष बीस लाख साल पुराने हैं।
काफी कोशिशों के बाद भी वैज्ञानिक किसी नतीजे पर नहीं पहुंचे हैं कि यह मछलियां समुद्र से करीब आधा मील दूर इस रेगिस्तानी इलाके में कैसे पहुंची थीं। कुछ को लगता है कि ये दिशा भटककर समुद्र के किनारे पर पहुंच गई होंगी। वहीं कुछ को लगता है कि यह मछलियां भूस्खलन के कारण यहां पहुंची और एक झील में घिर गई थीं। इस अनोखे कब्रिस्तान में इतिहासपूर्व की यह मछलियां अच्छी तरह संरक्षित थीं।
चिली के स्मिथसोनियन इंस्टीट्यूट के वैज्ञानिक इन पर अध्ययन कर रहे हैं। इनमें से कुछ का आकार बस के बराबर है। अब तक दो फुटबॉल मैदानों के बराबर इलाके में खुदाई की जा चुकी है। समझा जाता है कि यहां से और भी मछलियों के अवशेष मिल सकते हैं।
इससे पहले पेरू और मिस्र में भी व्हेल मछलियों के अवशेष मिले हैं लेकिन वे इतनी संख्या में और इतनी अच्छी तरह संरक्षित नहीं थे। स्मिथसोनियन नेशनलम्यूजियम के क्यूरेटर निकोलस पैनसन कहते हैं कि इनकी मौत का समय बता पाना मुश्किल है। फिर भी लगता है इनकी मौत करीब-करीब एक ही समय में हुई है।
 

 

 

 

 

 

 

कोई टिप्पणी नहीं: