देश की आशा हिंदी भाषा

समर्थक

शनिवार, 2 जुलाई 2011

बचपन के रंग …


.
बचपन में माँ से लड़ना झगड़ना 
उसके ही हाथों से रोटी फिर खाना 
उसके साथ ही चलना और घूमना 
गोदी में चढ़कर उसके मचलना 
पापा से झट से पैसे ले लेना 
पैसे से टाफी और इमली खाना 
चिढ़ना-चिढ़ाना रोना-रुलाना 
लुकना-छिपना हँसना-हँसाना 
ाँ की गोदी था प्यारा सा पलना 
पकड़े जो ोई तो धोती में छिपना 
ऐसा था प्यारा सा चपन का रंग 
गुजरा था जो मेरे माँ बाप के संग 

कोई टिप्पणी नहीं: