देश की आशा हिंदी भाषा

समर्थक

गुरुवार, 17 जून 2010

गुड मोर्निंग india

तुम बिन जिया जाये कैसे कैसे जिया जाये तुम बिन ।
सदियों से लम्बी है राते सदियों से लम्बे हुए दिन।
फिर शामे तन्हाई जगी फिर याद तूम आ रहे हो

कोई टिप्पणी नहीं: